Thursday, 29 September 2016

Happy Diwali/ Deepavali Speech, Essay in Hindi, English, Marathi, Tamil, Telugu, Malayalam, Gujarati, Punjabi 2016

 diwali essay in english, diwali essay in hindi, diwali essay for kids, diwali essay in punjabi, history of diwali, diwali essay in hindi, diwali essay in marathi,

If you are searching for diwali essay in english, diwali essay in hindi, diwali essay for kids, diwali essay in punjabi, history of diwali, diwali essay in hindi, diwali essay in marathi, Then you are in the right place.
Diwali date changes every year as the day is calculated according to the position of the moon. Find out when is Diwali 2016in this exclusive Diwali Calendar!! The detailed calendar page clearly points out Diwali Date 2016. Also find out Diwali Date for the past and coming year in the Diwali Calendar 2009 and Diwali Calendar 2016.
According to Hindu reckoning, the date of Diwali falls on 15th day of the dark fortnight in the auspicious Hindu month of Kartik or the month of October/November in English calendar. This Diwali day falls on the amavasya or the no moon day. Diwali date comes 20 days after the popular festival of Dussehra or Vijaya Dashmi.Diwali or Deepavali is not a single day festival, it comes with a bunch of festivals in India. In a normal scenario, this festival could last up to 5 days. From past few weeks from Diwali, people start cleaning and decorating their homes and offices. People decorate their houses and offices with paper or plastics strips & flowers, Rangoli, diyas, candles and lights.This year Happy Diwali 2016 is going to held on October 30, Sunday. The festivals start with Lakshmi Pujan in which all family members have to take part and worship pray for the betterment of all mankind, their families and every living one on the earth. After that, they began to wish Happy Diwali to their family members, neighbours, relatives and love once. People also exchange Diwali’s Sweets with each other on this occasion. Then people lights up Diya’s in homes and nearby areas to remove darkness. Children’s and teens are very happy on this occasions as they got new dresses & firecrackers to burn and enjoy this festival of lights.

Happy Diwali/ Deepavali Speech in English 2016

Diwali is the most significant and famous festival of the India which is being celebrated every year all over the country as well as outside the country. People celebrate it very enthusiastically to commemorate the returning of Lord Rama to his kingdom, Ayodhya after a long period of time of 14 years of exile after defeating the Ravana.
On the returning day of Lord Rama, people of Ayodhya had illuminated their homes and pathways to welcome their Lord with the great enthusiasm. It is a sacred Hindu festival which symbolizes the triumph of goodness over badness. It is also celebrated by the Sikhs to commemorate the release of their 6th Guru, Sri Hargobind Ji, from the Gwalior jail by the Mughal Emperor Jahangir.
Markets are decorated with lights just like a bride to give it a marvelous festive look. At this day market is full of big rush specially the sweet shops. Kids get new clothes, fire crackers, sweets, gifts, candles and toys from the market. People clean and whitewash their houses and decorate with electric lights some days earlier to the festival.

Happy Diwali/ Deepavali Speech in Hindi 2016

भारत एक ऐसा देश है जिसको त्योहारों की भूमि कहा जाता है। इन्हीं पर्वों मे से एक खास पर्व है दीपावली जो दशहरा के 20 दिन बाद अक्टूबर या नवंबर के महीने में आता है। इसे भगवान राम के 14 साल का वनवास काटकर अपने राज्य में लौटेने की खुशी में मनाया जाता है। अपनी खुशी जाहिर करने के लिये अयोध्यावासी इस दिन राज्य को रोशनी से नहला देते है साथ ही पटाखों की गूंज में सारा राज्य झूम उठता है।
दिवाली को रोशनी का उत्सव या लड़ीयों की रोशनी के रुप में भी जाना जाता है जोकि घर में लक्ष्मी के आने का संकेत है साथ ही बुराई पर अच्छाई की जीत के लिये मनाया जाता है। असुरों के राजा रावण को मारकर प्रभु श्रीराम ने धरती को बुराई से बचाया था। ऐसा माना जाता है कि इस दिन अपने घर, दुकान, और कार्यालय आदि में साफ-सफाई रखने से उस स्थान पर लक्ष्मी का प्रवेश होता है। उस दिन घरों को दियों से सजाना और पटाखे फोड़ने का भी रिवाज है।
ऐसी मान्यता है कि इस दिन नई चीजों को खरीदने से घर में लक्ष्मी माता आती है। इस दिन सभी लोग खास तौर से बच्चे उपहार, पटाखे, मिठाईयां और नये कपड़े बाजार से खरीदते है। शाम के समय, सभी अपने घर में लक्ष्मी अराधना करने के बाद घरों को रोशनी से सजाते है। पूजा संपन्न होने पर सभी एक दूसरे को प्रसाद और उपहार बाँटते है साथ ही ईश्वर से जीवन में खुशियों की कामना करते है। अंत में पटाखों और विभिन्न खेलों से सभी दिवाली की मस्ती में डूब जाते है।

 Happy Diwali/ Deepavali Speech in Marathi 2016

दिवाळी देशभरातील तसेच देशाबाहेर दरवर्षी साजरा केला जात आहे जे भारतीय सर्वात लक्षणीय आणि प्रसिद्ध सण आहे. लोक ती रावणाची पराभव करून हद्दपार 14 वर्षे वेळ दीर्घ काळानंतर त्याचे राज्य अयोध्येत श्री रामाला परत स्मारक अतिशय उत्साहाने साजरा करतात.
श्री रामाला परत दिवशी अयोध्या लोक खूप उत्साह त्यांच्या प्रभु स्वागत त्यांची घरे आणि मार्ग प्रकाशित होते. हे सबंध प्रती चांगुलपणा विजय चित्रित एक पवित्र हिंदू सण आहे. तसेच शीख मुघल सम्राट जहांगीर द्वारे ग्वाल्हेर तुरुंगात त्यांच्या 6 गुरू, श्री Hargobind जी प्रकाशन स्मारक साजरा केला जातो.,
बाजारात एक अद्भुत सणाच्या रूप देण्यासाठी फक्त एक वधू सारखे दिवे सह decorated आहेत. आज बाजारात खास मोठी गर्दी गोड दुकाने पूर्ण आहे. लहान मुले करा नवीन कपडे, फटाके, गोड, भेटी, बाजार मेणबत्त्या आणि खेळणी. लोक स्वच्छ आणि घरे चुना आणि पूर्वीचे सण काही दिवस विद्युत दिवे सजवा.

Happy Diwali/ Deepavali Speech in Tamil 2016

தீபாவளி நாடு முழுவதும் அதே போல் நாட்டின் வெளியே ஒவ்வொரு ஆண்டும் கொண்டாடப்பட்டு வருகிறது இது இந்தியாவின் மிக முக்கியமான மற்றும் பிரபலமான திருவிழா ஆகும். மக்கள் அவன் ராஜ்யம், அயோத்தி ராமர் திரும்பி நினைவாக ராவணன் தோற்கடித்த பின்னர் நாடு கடத்தப்பட்ட 14 ஆண்டுகள் நீண்ட காலத்திற்கு பிறகு மிகவும் ஆர்வத்துடன் அதை கொண்டாட.
ராமர் திரும்பிய நாளில், அயோத்தி மக்கள் பெரும் உற்சாகத்துடன் தங்கள் இறைவன் வரவேற்க தங்கள் வீடுகள் மற்றும் பாதைகளை வெளிச்சம் இருந்தது. அது பொல்லாப்பினிமித்தம் நன்மை வெற்றி அடையாளமாக ஒரு புனிதமான இந்து மதம் திருவிழா ஆகும். இது சீக்கியர்கள் தங்கள் 6 குரு, ஸ்ரீ Hargobind ஜி வெளியீட்டு ஞாபகார்த்தமாக, குவாலியர் சிறையில் இருந்து முகலாயப் பேரரசர் ஜஹாங்கிர் கொண்டாடப்படுகிறது.
சந்தைகள் ஒரு மணப்பெண் போல் விளக்குகள் அது ஒரு அற்புதமான பண்டிகை தோற்றத்தை கொடுக்க அலங்கரிக்கப்பட்டுள்ளது. இந்த நாள் சந்தையில் பெரிய அவசரத்தில் சிறப்பாக இனிப்பு கடைகள் முழு உள்ளது. குழந்தைகள் புதிய ஆடைகள், பட்டாசுகள், இனிப்புகள், பரிசுகள், சந்தையில் இருந்து மெழுகுவர்த்தியை மற்றும் பொம்மைகள் கிடைக்கும். சுத்தமான மக்கள் மற்றும் அவர்களின் வீடுகள் மறைத்து சில நாட்களுக்கு முன்னர் திருவிழா மின் விளக்குகள் கொண்டு அலங்கரிக்கலாம்.

Happy Diwali/ Deepavali Speech in Telugu 2016

దీపావళి దేశవ్యాప్తంగా అలాగే దేశం వెలుపల ప్రతి సంవత్సరం జరుపుకుంటారు చేసిన భారతదేశం అత్యంత ముఖ్యమైన మరియు ప్రసిద్ధ పండుగ. ప్రజలు తన రాజ్యం అయోధ్య లార్డ్ రామ యొక్క తిరిగి జ్ఞాపకార్ధం రావణ ఓడించి ప్రవాస 14 సంవత్సరాల సుదీర్ఘ కాలం తర్వాత చాలా ఉత్సాహంగా జరుపుకుంటున్నారు.
లార్డ్ రామ యొక్క తిరిగి రోజు, అయోధ్య ప్రజలు గొప్ప ఉత్సాహంతో తమ ప్రభువు స్వాగతం వారి ఇళ్లలో మరియు మార్గాలు ప్రకాశిస్తూ చేసింది. ఇది చెరుపు పైగా మంచితనం విజయం సూచిస్తుంది ఇది ఒక పవిత్ర హిందూ మతం పండుగ. ఇది కూడా సిక్కులు తమ 6 వ గురువైన శ్రీ Hargobind జీ విడుదల సందర్భంగా గౌలియార్ జైలు నుండి మొఘల్ చక్రవర్తి జహంగీర్ జరుపుకుంటారు.
మార్కెట్లు కేవలం ఒక వధువు వంటి లైట్లు ఇది ఒక అద్భుతమైన పండుగ లుక్ ఇవ్వాలని అలంకరిస్తారు. ఈ రోజు మార్కెట్ వద్ద పెద్ద రద్దీ ప్రత్యేకంగా తీపి దుకాణాలకు నిండి ఉంది. పిల్లలు కొత్త బట్టలు, అగ్ని క్రాకర్లు, స్వీట్లు, బహుమతులు, మార్కెట్ నుండి కొవ్వొత్తులను మరియు బొమ్మలు పొందండి. ప్రజలు స్వచ్ఛమైన మరియు వారి ఇళ్ళు వైట్వాష్ మరియు విద్యుత్ దీపాలు ఉత్సవం కొన్ని రోజుల ముందు అలంకరిస్తారు.

Happy Diwali/ Deepavali Speech in Malayalam 2016

ദീപാവലി രാജ്യത്തുടനീളം അതുപോലെ രാജ്യത്തിന് പുറത്ത് എല്ലാ വർഷവും ആഘോഷിക്കുന്ന ചെയ്യപ്പെടുകയാണ് ഇന്ത്യയുടെ ഏറ്റവും പ്രധാനവും പ്രശസ്തമായ ആഘോഷമാണ്. ആളുകൾ അവന്റെ രാജ്യം അയോദ്ധ്യ കർത്താവിന്റെ ശ്രീരാമൻറെ മടങ്ങിവരുന്ന സ്മരണയ്ക്കായി രാവണൻ തോൽപ്പിച്ച് പ്രവാസത്തിന്റെ 14 വർഷം സമയം ഒരു നീണ്ട ഇടവേളയ്ക്കുശേഷം വളരെ ആവേശത്തോടെ അതു ആചരിക്കേണം.
രാമൻറെ എന്ന മടങ്ങിവരുന്ന ദിവസം അയോധ്യയിലെ ജനം വലിയ ആവേശം അവരുടെ രക്ഷിതാവ് സ്വാഗതം അവരുടെ വീടുകളിൽ മദമിളകിയ പ്രകാശിച്ചു ചെയ്തു. ഇത് ദുഷ്ടത മേൽ നന്മയുടെ വിജയം പ്രതീകപ്പെടുത്തുന്നു പുണ്യ ഹൈന്ദവ ആഘോഷമാണ്. ഇത് മുഗൾ ചക്രവർത്തി ജഹാംഗീർ ഗ്വാളിയാർ ജയിലിൽ നിന്ന്, അവരുടെ 6 ഗുരു ശ്രീ ഹർഗോബിന്ദ് ജി റിലീസ് ഓർമ്മയ്ക്കായി സിഖ് ആഘോഷിക്കുന്ന.
വിപണി വെറും ഒരു അത്ഭുതമാക്കിത്തീർക്കുകയും ഉത്സവ ലുക്ക് നൽകാൻ ഒരു മണവാട്ടി എന്നപോലെ ലൈറ്റുകൾ അലങ്കരിച്ച ചെയ്യുന്നു. ഇന്നു വിപണിയിൽ വലിയ തിരക്ക് പ്രത്യേകം സ്വീറ്റ് ഷോപ്പുകളിൽ നിറഞ്ഞിരിക്കുന്നു. കിഡ്സ് വിപണിയിൽ നിന്ന് പുതിയ വസ്ത്രം, തീ പടക്കം, മധുരം, സമ്മാനങ്ങൾ, മെഴുകുതിരികൾ കളിപ്പാട്ടങ്ങളും നേടുക. ശുദ്ധിയുള്ള അവരുടെ വീടുകളിൽ കെട്ടിയുണ്ടാക്കുന്നവർ ചില ദിവസം മുമ്പ് ഫെസ്റ്റിവലിന് വൈദ്യുത വിളക്കുകൾ കൊണ്ട് അലങ്കരിക്കാൻ ആളുകൾ.

Happy Diwali/ Deepavali Speech in Gujarati 2016


દિવાળી ભારત દર વર્ષે સમગ્ર દેશમાં તેમજ દેશ બહાર ઉજવણી કરવામાં આવી રહી છે સૌથી વધુ નોંધપાત્ર અને પ્રખ્યાત તહેવાર છે. લોકો તેને ઉજવણી ખૂબ જ ઉત્સાહપૂર્વક તેમના સામ્રાજ્ય, અયોધ્યા ભગવાન રામ પરત ઉજવણી રાવણ હરાવ્યા પછી દેશનિકાલ 14 વર્ષ સમય લાંબા ગાળા પછી.
ભગવાન રામ પરત દિવસે અયોધ્યાના લોકો તેમના ઘરો અને રસ્તાઓ પ્રકાશિત કરી હતી મહાન ઉત્સાહ સાથે તેમના ભગવાન સ્વાગત છે. તે એક પવિત્ર હિન્દૂ તહેવાર છે કે જેમાં દુષ્ટતા પર દેવતા વિજય પ્રતીક છે. તે પણ મોગલ બાદશાહ જહાંગીર દ્વારા ગ્વાલિયર જેલમાંથી શીખો દ્વારા ઉજવવામાં આવે છે તેમના 6 ઠ્ઠી ગુરુ, શ્રી હરગોબિંદ જી પ્રકાશન ઉજવણી.
બજાર માત્ર એક સ્ત્રી જેવી લાઇટ તે એક શાનદાર તહેવારોની દેખાવ આપવા માટે શણગારવામાં આવે છે. આ દિવસે બજારમાં ખાતે મોટી ધસારો ખાસ મીઠી દુકાનોથી ભરેલી છે. બાળકો નવા કપડાં, ફટાકડા, મીઠાઈ, ભેટ, બજાર માંથી મીણબત્તીઓ અને રમકડાં મેળવો. લોકો સ્વચ્છ અને તેમના ઘરો whitewash અને કેટલાક દિવસો ઉત્સવ અગાઉ ઇલેક્ટ્રિક લાઇટ સાથે શણગારે છે.

Happy Diwali/ Deepavali Speech in Punjabi 2016

ਦੀਵਾਲੀ ਭਾਰਤ ਦਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਹਰ ਸਾਲ ਦੇਸ਼ ਭਰ ਦੇ ਨਾਲ ਨਾਲ ਦੇਸ਼ ਦਾ ਬਾਹਰ ਮਨਾਇਆ ਜਾ ਰਿਹਾ ਹੈ ਦਾ ਸਭ ਮਹੱਤਵਪੂਰਨ ਹੈ ਅਤੇ ਮਸ਼ਹੂਰ ਤਿਉਹਾਰ ਹੈ. ਲੋਕ ਇਸ ਨੂੰ ਮਨਾਉਣ ਲਈ ਬਹੁਤ ਹੀ ਜੋਸ਼ ਨਾਲ ਉਸ ਦੇ ਰਾਜ, ਅਯੁੱਧਿਆ ਪ੍ਰਭੂ ਰਾਮ ਦੇ ਵਾਪਸ ਆ ਮਨਾਉਣ ਲਈ ਰਾਵਣ ਨੂੰ ਹਰਾ ਕੇ ਗ਼ੁਲਾਮੀ ਦੇ 14 ਸਾਲ ਦੇ ਵਾਰ ਦੀ ਇੱਕ ਲੰਬੇ ਅਰਸੇ ਦੇ ਬਾਅਦ.
ਭਗਵਾਨ ਰਾਮ ਦੇ ਵਾਪਸ ਆ ਦਿਨ 'ਤੇ, ਅਯੁੱਧਿਆ ਦੇ ਲੋਕ ਆਪਣੇ ਘਰ ਅਤੇ ਤਰੀਿੇ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਮਾਨ ਕੀਤਾ ਸੀ ਮਹਾਨ ਉਤਸ਼ਾਹ ਨਾਲ ਆਪਣੇ ਪ੍ਰਭੂ ਦਾ ਸਵਾਗਤ ਕਰਨ ਲਈ. ਇਹ ਇੱਕ ਪਵਿੱਤਰ ਹਿੰਦੂ ਤਿਉਹਾਰ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਬੁਰਾਈ 'ਤੇ ਚੰਗਿਆਈ ਦੀ ਜਿੱਤ ਦਾ ਪ੍ਰਤੀਕ ਹੈ. ਇਸ ਵਿਚ ਇਹ ਵੀ ਮੁਗਲ ਸਮਰਾਟ Jahangir ਕੇ ਗਵਾਲੀਅਰ ਜੇਲ੍ਹ ਤੱਕ, ਸਿੱਖ ਕੇ ਮਨਾਇਆ ਗਿਆ ਹੈ ਨੇ ਆਪਣੇ 6 ਗੁਰੂ, ਸ਼੍ਰੀ ਹਰਿਗੋਬਿੰਦ ਜੀ ਦੀ ਰਿਹਾਈ ਦੀ ਯਾਦ ਕਰਨ ਲਈ.
ਬਾਜ਼ਾਰ ਕੇਵਲ ਇੱਕ ਲਾੜੀ ਵਰਗਾ ਰੌਸ਼ਨੀ ਇਸ ਨੂੰ ਇੱਕ ਸ਼ਾਨਦਾਰ ਤਿਉਹਾਰ ਨਜ਼ਰ ਦੇਣ ਲਈ ਨਾਲ ਸਜਾਇਆ ਕਰ ਰਹੇ ਹਨ. ਇਸ ਦਿਨ ਦੀ ਮਾਰਕੀਟ 'ਤੇ ਵੱਡੇ ਕਾਹਲੀ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਮਿੱਠੇ ਦੁਕਾਨਾ ਨਾਲ ਭਰਪੂਰ ਹੈ. ਕਿਡਜ਼ ਨਵ ਕੱਪੜੇ, ਅੱਗ ਕਰੈਕਰ, ਮਿਠਾਈ, ਤੋਹਫ਼ੇ, ਮਾਰਕੀਟ ਤੱਕ ਮੋਮਬੱਤੀ ਅਤੇ ਖਿਡੌਣੇ ਵਿੱਚ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰੋ. ਲੋਕ ਸਾਫ਼ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਘਰ ਹੂੰਝਾ ਅਤੇ ਕੁਝ ਦਿਨ ਤਿਉਹਾਰ ਦਾ ਪਹਿਲਾ ਬਿਜਲੀ ਰੌਸ਼ਨੀ ਨਾਲ ਸਜਾਉਣ.

Happy Diwali/ Deepavali Essay in English 2016

India is the great country known as the land of festivals. One of the famous and most celebrated festival is Diwali or Deepawali which falls every year 20 days after the festival of Dussehra in the month of October or November. It is celebrated to commemorate the returning of Lord Rama to the Kingdom after the 14 years of exile. People of Ayodhya shown their their joy and happiness by lighting the lamps in the whole kingdom and firing crackers.
Diwali is known as the festival of lights or row of lights which is the symbol of coming of Lakshmi to the home and victory of truth over the evil. At this day Lord Rama had killed the demon king of Lanka, Ravan in order to save the earth from the bad activities. People do whitewash and clean up of their houses, offices, and shops to welcome the Lakshmi. They decorate their houses, lighting lamps and firing crackers.
It is common beliefs of people that buying new things at this day would bring home the Lakshmi. People buy gifts, clothes, sweets, decorative things, fire crackers and diyas. Kids buy toys, sweets and crackers from the market. In the evening, Lakshmi puja is held by the people at their home by lighting lamps. People take bath, wear new clothes and then start puja. After puja they distribute prasad and share gifts to each other. They pray to God for the happy and prosperous life. And in the last they enjoy burning fire crackers and playing games.

 

Happy Diwali/ Deepavali Essay in Hindi 2016

दिपावली एक महत्वपूर्णं और प्रसिद्ध उत्सव है जिसे हर साल देश और देश के बाहर विदेश में भी मनाया जाता है। इसे भगवान राम के चौदह साल के वनवास से अयोध्या वापसी के बाद और लंका के राक्षस राजा रावण को पराजित करने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।
भगवान राम की वापसी के बाद, भगवान राम के स्वागत के लिये सभी अयोध्या वासीयों ने पूरे उत्साह से अपने घरों और रास्तों को सजा दिया। ये एक पावन हिन्दू पर्व है जो बुराई पर सच्चाई की जीत के प्रतीक के रुप में है। इसे सिक्खों के छठवें गुरु श्रीहरगोविन्द जी के रिहाई की खुशी में भी मनाया जाता है, जब उनको ग्वालियर के जेल से जहाँगीर द्वारा छोड़ा गया।
बाजारों को दुल्हन की तरह शानदार तरीके से सजा दिया जाता है। इस दिन बाजारों में खासा भीड़ रहती है खासतौर से मिठाईयों की दुकानों पर, बच्चों के लिये ये दिन मानो नए कपड़े, खिलौने, पटाखें और उपहारों की सौगात लेकर आता है। दिवाली आने के कुछ दिन पहले ही लोग अपने घरों की साफ-सफाई के साथ बिजली की लड़ियों से रोशन कर देते है।
देवी लक्ष्मी की पूजा के बाद आतिशबाजी का दौर शरु होता है। इसी दिन लोग बुरी आदतों को छोड़कर अच्छी आदतों को अपनाते है। भारत के कुछ जगहों पर दिवाली को नये साल की शुरुआत माना जाता है साथ ही व्यापारी लोग अपने नये बही खाता से शुरुआत करते है।
दिवाली सभी के लिये एक खास उत्सव है क्योंकि ये लोगों के लिये खुशी और आशीर्वाद लेकर आता है। इससे बुराई पर अच्छाई की जीत के साथ ही नये सत्र की शुरुआत भी होती है।

Happy Diwali/ Deepavali Essay in Marathi 2016

भारत सण जमीन म्हणून ओळखले महान देश आहे. प्रसिद्ध आणि सर्वात सुप्रसिद्ध सण एक दिवाळी किंवा Deepawali ऑक्टोबर किंवा नोव्हेंबर महिन्यात दसरा हा सण 20 दिवस प्रत्येक वर्षी येतो आहे. तो हद्दपार 14 वर्षांच्या किंगडम पर्यंत श्री रामाला परत स्मारक साजरा केला जातो. अयोध्या लोक संपूर्ण राज्यात दिवे प्रकाश टाकून गोळीबारही फटाके त्यांच्या आनंद आणि आनंद गेले.
दिवाळी दिवे सण किंवा पंक्ती दिवे संकटे घर आणि सत्य विजय लक्ष्मी येत प्रतीक आहे म्हणून ओळखले जाते. आज श्री रामाला वाईट उपक्रम पृथ्वीवर जतन करण्यासाठी श्रीलंका, रावण या भूत राजा हत्या केली होती. लोक चुना आणि घरे, कार्यालये, दुकाने लक्ष्मी स्वागत च्या साफ नाही. ते लोक आपापल्या प्रकाश, दिवे आणि गोळीबार फटाके सजवा.
या दिवशी नवीन गोष्टी खरेदी घरी लक्ष्मी आणण्यासाठी असे लोक सामान्य समजुती आहे. लोक भेटी, कपडे, गोड, सजावटीच्या गोष्टी फटाके आणि diyas खरेदी. लहान मुले बाजारात खेळणी, गोड आणि फटाके खरेदी. संध्याकाळी, लक्ष्मी पूजा प्रकाश दिवे करून त्यांच्या घरी लोक आयोजित आहे. लोक, अंघोळ नवीन कपडे घालणारे आणि नंतर पूजा सुरू. पूजा नंतर ते एकमेकांशी प्रसाद आणि शेअर भेटी वितरीत करतात. ते सुखी व समृद्ध जीवन देवाला प्रार्थना. आणि शेवटी ते फटाके बर्ण आणि गेम खेळत आनंद.

Happy Diwali/ Deepavali Essay in Tamil 2016

இந்தியா விழாக்களில் நிலம் என அழைக்கப்படும் பெரிய நாடு. பிரபலமான மற்றும் மிகவும் புகழ்பெற்ற திருவிழா ஒன்று 20 நாட்கள், அக்டோபர் அல்லது நவம்பர் மாதத்தில் தசரா திருவிழா பின்னர் ஒவ்வொரு ஆண்டும் விழும் தீபாவளி அல்லது தீபாவளி ஆகும். அது வெளிநாட்டில் 14 ஆண்டுகளுக்கு பிறகு இராச்சியம் ராமர் திரும்பி நினைவாக கொண்டாடப்படுகிறது. அயோத்தி மக்கள் முழு ராஜ்யத்தில் அகல் விளக்கு ஏற்றி மற்றும் பட்டாசு துப்பாக்கி சூடு மூலம் தங்கள் தங்கள் சந்தோஷத்தையும் காட்டப்பட்டுள்ளது.
தீபாவளி விளக்குகள் விளக்கு பண்டிகைக்கு அல்லது வரிசையில் இது தீய மீது வீட்டில் மற்றும் உண்மையின் வெற்றி லட்சுமி வரும் சின்னம் என அறியப்படுகிறது. இந்நாளில் ராமர் மோசமான நடவடிக்கைகள் இருந்து பூமியை காப்பாற்ற பொருட்டு இலங்கை, இராவணன் அரக்கன் ராஜா கொலை செய்தார். மக்கள் மறைத்து தங்கள் வீடுகள், அலுவலகங்கள், மற்றும் லட்சுமி வரவேற்க கடைகள் சுத்தம் செய்ய. அவர்கள் தங்கள் வீடுகள், விளக்கு மற்றும் துப்பாக்கி சூடு பட்டாசு அலங்கரிக்க.
இந்நாளில் புதிய பொருட்களை வாங்குவதை லட்சுமி வீட்டில் கொண்டு வரும் என்று மக்கள் பொதுவான நம்பிக்கைகள் உள்ளது. மக்கள் பரிசுகளை, ஆடைகள், இனிப்புகள், அலங்கார விஷயங்களை, பட்டாசுகள் மற்றும் diyas வாங்க. குழந்தைகள் சந்தையில் இருந்து பொம்மைகள், இனிப்புகள் மற்றும் பட்டாசுகளை வாங்க. மாலை, லட்சுமி பூஜை விளக்கு மூலம் தங்கள் வீட்டில் மக்கள் நடத்தப்பட்டது. மக்கள், குளிக்க புதிய ஆடைகளை அணிய பின்னர் பூஜை தொடங்கும். பூஜைக்குப் பிறகு, அவர்கள் ஒருவருக்கொருவர் பிரசாத் மற்றும் பங்கு பரிசு. அவர்கள் மகிழ்ச்சியாக மற்றும் வளமான வாழ்க்கையை கடவுளிடம் ஜெபம். கடந்த அவர்கள் பட்டாசுகள் எரியும் மற்றும் விளையாடுவதை அனுபவிக்க.

Happy Diwali/ Deepavali Essay in Telugu 2016

భారతదేశం పండుగలు భూమి గా పిలువబడే గొప్ప దేశం. ప్రసిద్ధ మరియు అత్యంత ప్రసిద్ధి పండుగ ఒకటిగా 20 రోజుల అక్టోబర్ లేదా నవంబర్ నెలలో దసరా పండుగ తర్వాత ప్రతి సంవత్సరం వస్తుంది దీపావళి లేదా దీపావళి ఉంది. ఇది ప్రవాస 14 సంవత్సరాల తర్వాత కింగ్డమ్ లార్డ్ రామ యొక్క తిరిగి జ్ఞాపకార్ధం జరుపుకుంటారు. అయోధ్య ప్రజలు మొత్తం రాజ్యంలో దీపాలు వెలిగించడం మరియు క్రాకర్లు కాల్పులు వారి వారి సంతోషం మరియు ఆనందం చూపిన.
దీపావళి చెడు పైగా ఇంటి మరియు సత్యం యొక్క విజయం లక్ష్మి వస్తున్న గుర్తు లైట్ల దీపాల పండుగ లేదా వరుసగా అంటారు. ఈ రోజు లార్డ్ రామ చెడు కార్యకలాపాలు నుండి భూమి సేవ్ చెయ్యడానికి లంక, Ravan భూతం రాజు హత్య చేశాడు. ప్రజలు వైట్వాష్ మరియు వారి ఇళ్ళు, కార్యాలయాలు, మరియు దుకాణాలు లక్ష్మి స్వాగతం శుభ్రం లేదు. వారు తమ ఇండ్లను లైటింగ్ దీపములు మరియు ఫైరింగ్ క్రాకర్లు అలంకరిస్తారు.
ఈ రోజు కొత్త విషయాలు కొనుగోలు ఇంటికి తీసుకురావడానికి అని లక్ష్మి ప్రజల సాధారణ విశ్వాసాలను ఉంది. ప్రజలు బహుమతులు, బట్టలు, స్వీట్లు, అలంకార విషయాలు, అగ్ని క్రాకర్లు మరియు diyas కొనుగోలు. కిడ్స్ మార్కెట్ నుంచి బొమ్మలు, స్వీట్లు మరియు క్రాకర్లు కొనుగోలు. సాయంత్రం, లక్ష్మీ పూజ లైటింగ్ దీపములు వారి ఇంటి వద్ద ప్రజలు భద్రపరచారు. ప్రజలు, స్నానపు, నూతన వస్త్రాలు ధరిస్తారు ఆపై పూజ మొదలు. పూజ తరువాత వారు ఒకరికొకరు ప్రసాదం మరియు భాగస్వామ్యం బహుమతులు పంపిణీ. వారు సంతోషంగా మరియు సంపన్న జీవితం కోసం దేవుని ప్రార్థించాడు. మరియు చివరిది లో వారు అగ్ని క్రాకర్లు బర్నింగ్ మరియు గేమ్స్ ప్లే ఆస్వాదించండి.


Happy Diwali/ Deepavali Essay in Malayalam 2016


ഇന്ത്യ ഉത്സവങ്ങൾ ദേശത്തു എന്നറിയപ്പെടുന്ന വലിയ രാജ്യമാണ്. പ്രശസ്തവും ഏറ്റവും പ്രശസ്തനായ ഉത്സവം ഒന്ന് 20 ദിവസം ഒക്ടോബർ നവംബർ മാസത്തിൽ ദസറ ഉത്സവം ഓരോ വർഷവും ആയ ദീപാവലി അല്ലെങ്കിൽ മൂത്തജ്വേഷ്ടനായ ആണ്. ഇത് പ്രവാസത്തിന്റെ 14 വർഷങ്ങൾക്ക് ശേഷം കെ കർത്താവിന്റെ ശ്രീരാമൻറെ മടങ്ങിവരുന്ന ഓർമ്മയ്ക്കായി ആഘോഷിക്കുന്നത്. അയോധ്യയിലെ ആളുകൾ മുഴുവനും രാജ്യത്തിൽ ദീപങ്ങൾ വിളക്കുകൾ പടക്കം ഫയറിംഗ് തങ്ങളുടെ തങ്ങളുടെ സന്തോഷവും സന്തോഷം കാണിച്ചിരിക്കുന്നു.
ദീപാവലി ദോഷം ആഭ്യന്തര സത്യത്തിന്റെ ജയം ലക്ഷ്മി വരവും ചിഹ്നമാണ് ലൈറ്റുകൾ വിളക്കുകളാണ് അല്ലെങ്കിൽ വരി ഉത്സവം അറിയപ്പെടുന്നത്. ഇന്നു രാമൻറെ മോശം പ്രവർത്തനങ്ങളിൽ നിന്ന് ഭൂമിയെ രക്ഷിക്കാൻ വേണ്ടി ശ്രീലങ്ക, രാവണ എന്ന രാക്ഷസനെ രാജാവിനെ കൊന്ന. ആളുകൾ കെട്ടിയുണ്ടാക്കുന്നവർ അവരുടെ വീടുകളും ഓഫീസുകളും, ലക്ഷ്മി സ്വാഗതം കടകളിൽ വൃത്തിയാക്കണം ചെയ്യാൻ. അവർ അവരുടെ വീടുകളെ, ലൈറ്റിംഗ് വിളക്കുകൾ ഫയറിംഗ് പടക്കം അലങ്കരിക്കുന്നു.
ഇത് ഇന്നു പുതിയ കാര്യങ്ങൾ വാങ്ങുന്നത് ലക്ഷ്മി വീട്ടിൽ കൊണ്ടുവരുമെന്ന ജനങ്ങളുടെ പൊതുവായ വിശ്വാസങ്ങൾ ആണ്. ആളുകൾ സമ്മാനങ്ങൾ, വസ്ത്രം, മധുരം, അലങ്കാര കാര്യങ്ങൾ തീ പടക്കം ആൻഡ് diyas വാങ്ങാൻ. കിഡ്സ് വിപണിയിൽ നിന്നും കളിപ്പാട്ടങ്ങൾ, മധുരപലഹാരങ്ങൾ പടക്കം വാങ്ങാൻ. വൈകുന്നേരം, ലക്ഷ്മി പൂജ ദീപങ്ങൾ കൊളുത്തി അവരുടെ വീട്ടിൽ ആളുകൾ താങ്ങി. ആളുകൾ, ബാത്ത് എടുത്തു പുതിയ വസ്ത്രം ധരിക്കാൻ തുടർന്ന് പൂജ ആരംഭിക്കുക. പൂജ ശേഷം അവർ പരസ്പരം പ്രസാദും പങ്ക് സമ്മാനങ്ങൾ വിതരണം. പഴയെ ത്രികോണാകൃതിയിലാണു ജീവിതം ദൈവത്തോടു പ്രാർത്ഥിക്കുന്നു. ഒടുവിൽ അവർ കത്തുന്ന തീ പടക്കം പാടുന്നതും ഗെയിമുകൾ ആസ്വദിക്കാൻ.

Happy Diwali/ Deepavali Essay in Gujarati 2016


ભારત મહાન તહેવારો જમીન તરીકે ઓળખાય દેશ છે. પ્રખ્યાત અને સૌથી પ્રખ્યાત તહેવાર એક દિવાળી અથવા દિવાળી જે 20 દિવસ ઓક્ટોબર કે નવેમ્બર મહિનામાં દશેરા ઉત્સવ પછી દર વર્ષે પડે છે. તે કીંગડમ ભગવાન રામ પરત દેશનિકાલ 14 વર્ષ પછી ઉજવણી ઉજવવામાં આવે છે. અયોધ્યાના લોકો સમગ્ર રાજ્યમાં દીવા પ્રગટાવીને અને ફટાકડા ફાયરિંગ દ્વારા તેમના આનંદ અને સુખ દર્શાવવામાં આવે છે.
દિવાળી પ્રકાશનો પર્વ અથવા પ્રકાશના પંક્તિ જે ઘર અને સત્ય વિજય દુષ્ટ પર માટે લક્ષ્મી આવતા પ્રતીક તરીકે ઓળખાય છે. આ દિવસે ભગવાન રામ ક્રમમાં ખરાબ પ્રવૃત્તિઓ ના પૃથ્વી સેવ કરવા માટે લંકા, રાવણ દાનવ રાજા માર્યા ગયા હતા. લોકો whitewash અને તેમના ઘરો, ઓફિસો, દુકાનો અને લક્ષ્મી આવકારવા માટે સાફ નથી. તેઓ તેમના ઘરો, લાઇટિંગ લેમ્પ અને ગોળીબાર ફટાકડા શણગારે છે.
તે લોકો સામાન્ય માન્યતાઓ છે કે આ દિવસે નવી વસ્તુઓ ખરીદી ઘર લાવશે લક્ષ્મી છે. લોકો ભેટ, કપડાં, મીઠાઈ, સુશોભન વસ્તુઓ, ફટાકડા અને દીવા ખરીદે છે. બાળકો બજાર માંથી રમકડાં, મીઠાઈઓ અને ફટાકડા ખરીદે છે. સાંજે, લક્ષ્મી પૂજા લાઇટિંગ લેમ્પ દ્વારા તેમના ઘરમાં લોકો દ્વારા યોજવામાં આવે છે. લોકો સ્નાન લેવા નવા કપડાં પહેરે છે અને પછી પૂજા શરૂ કરો. પૂજા પછી તેઓ દરેક અન્ય પ્રસાદ અને શેર ભેટ વિતરણ. તેઓ ખુશ અને સમૃદ્ધ જીવન માટે ભગવાન માટે પ્રાર્થના કરે છે. અને છેલ્લા તેઓ ફટાકડા બર્ન અને રમતો રમીને આનંદ.

Happy Diwali/ Deepavali Essay in Punjabi 2016

ਭਾਰਤ ਨੂੰ ਮਹਾਨ ਤਿਉਹਾਰ ਦੀ ਧਰਤੀ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਜਾਣਿਆ ਦੇਸ਼ ਹੈ. ਮਸ਼ਹੂਰ ਅਤੇ ਸਭ ਮਨਾਇਆ ਤਿਉਹਾਰ ਦਾ ਇੱਕ ਦੀਵਾਲੀ ਜ Deepawali, ਜੋ ਕਿ 20 ਦਿਨ ਅਕਤੂਬਰ ਨੂੰ ਜ ਨਵੰਬਰ ਦੇ ਮਹੀਨੇ 'ਚ ਦੁਸਹਿਰੇ ਦੇ ਤਿਉਹਾਰ ਦੇ ਬਾਅਦ ਹਰ ਸਾਲ ਡਿੱਗ ਰਿਹਾ ਹੈ. ਇਹ ਕਿੰਗਡਮ ਤੱਕ, ਪ੍ਰਭੂ ਰਾਮ ਦੇ ਵਾਪਸ ਆ ਗ਼ੁਲਾਮੀ ਦੇ 14 ਸਾਲ ਬਾਅਦ ਯਾਦ ਮਨਾਇਆ ਗਿਆ ਹੈ. ਅਯੁੱਧਿਆ ਦੇ ਲੋਕ ਸਾਰੀ ਰਾਜ ਵਿੱਚ ਦੀਵੇ ਰੋਸ਼ਨੀ ਅਤੇ ਕਰੈਕਰ ਗੋਲੀਬਾਰੀ ਕੇ ਆਪਣੇ ਆਪਣੇ ਖੁਸ਼ੀ ਅਤੇ ਖੁਸ਼ੀ ਦਿਖਾਇਆ.
ਦੀਵਾਲੀ ਰੌਸ਼ਨੀ ਦੇ ਤਿਉਹਾਰ ਜ ਰੌਸ਼ਨੀ ਦੀ ਕਤਾਰ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਘਰ ਦੇ ਅਤੇ ਸੱਚ ਦੀ ਜਿੱਤ ਬਦੀ 'ਤੇ ਕਰਨ ਲਈ ਲਕਸ਼ਮੀ ਦੇ ਆਉਣ ਦਾ ਪ੍ਰਤੀਕ ਹੈ ਦੇ ਤੌਰ ਤੇ ਜਾਣਿਆ ਗਿਆ ਹੈ. ਇਸ ਦਿਨ 'ਤੇ ਭਗਵਾਨ ਰਾਮ ਕ੍ਰਮ ਮੰਦਾ ਕੰਮ ਨੂੰ ਧਰਤੀ ਨੂੰ ਬਚਾਉਣ ਲਈ ਵਿੱਚ ਸ੍ਰੀਲੰਕਾ, ਰਾਵਣ ਦੇ ਭੂਤ ਦਾ ਪਾਤਸ਼ਾਹ ਨੂੰ ਮਾਰ ਦਿੱਤਾ ਸੀ. ਲੋਕ ਹੂੰਝਾ ਅਤੇ ਆਪਣੇ ਘਰ, ਦਫ਼ਤਰ, ਅਤੇ ਦੁਕਾਨਾ ਲਕਸ਼ਮੀ ਦਾ ਸਵਾਗਤ ਕਰਨ ਲਈ ਦੇ ਸਾਫ਼ ਕਰਦੇ ਹੋ. ਉਹ ਆਪਣੇ ਘਰ, ਰੋਸ਼ਨੀ ਦੀਵੇ ਅਤੇ ਗੋਲੀਬਾਰੀ ਕਰੈਕਰ ਸਜਾਉਣ.
ਇਹ ਲੋਕ ਆਮ ਵਿਸ਼ਵਾਸ ਹੈ, ਜੋ ਕਿ ਇਸ ਦਿਨ 'ਤੇ ਨਵ ਕੁਝ ਖਰੀਦਣ ਨੂੰ ਘਰ ਲੈ ਕੇ ਜਾਵੇਗਾ ਲਕਸ਼ਮੀ ਹੈ. ਲੋਕ ਤੋਹਫ਼ੇ, ਕੱਪੜੇ, ਮਠਿਆਈ, ਸਜਾਵਟੀ ਕੁਝ, ਅੱਗ ਕਰੈਕਰ ਅਤੇ diyas ਖਰੀਦਣ. ਕਿਡਜ਼ ਦੀ ਮਾਰਕੀਟ ਤੱਕ ਖਿਡੌਣੇ, ਮਠਿਆਈ ਅਤੇ ਕਰੈਕਰ ਖਰੀਦਣ. ਸ਼ਾਮ ਨੂੰ ਵਿੱਚ, ਲਕਸ਼ਮੀ ਪੂਜਾ ਰੋਸ਼ਨੀ ਦੀਵੇ ਕੇ ਆਪਣੇ ਘਰ 'ਤੇ ਲੋਕ ਕੇ ਆਯੋਜਿਤ ਕੀਤਾ ਗਿਆ ਹੈ. ਲੋਕ, ਇਸ਼ਨਾਨ ਨੂੰ ਲੈ ਨਵ ਕੱਪੜੇ ਪਹਿਨਣ ਅਤੇ ਫਿਰ ਪੂਜਾ ਸ਼ੁਰੂ. ਪੂਜਾ ਦੇ ਬਾਅਦ ਉਹ ਇਕ ਦੂਜੇ ਨੂੰ ਪ੍ਰਸਾਦ ਅਤੇ ਸ਼ੇਅਰ ਤੋਹਫ਼ੇ ਵੰਡਣ. ਉਹ ਖੁਸ਼ ਹੈ ਅਤੇ ਖੁਸ਼ਹਾਲ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਲਈ ਪਰਮੇਸ਼ੁਰ ਨੂੰ ਪ੍ਰਾਰਥਨਾ ਕਰੋ. ਅਤੇ ਪਿਛਲੇ ਵਿੱਚ ਉਹ ਅੱਗ ਕਰੈਕਰ ਬਲਦੀ ਅਤੇ ਖੇਡ ਖੇਡਣ ਦਾ ਮਜ਼ਾ.

Conclusion

I hope you will love this article. So share this article with your family and friends. Stay connect with us for speech on diwali for school, speech on diwali in hindi, speech on diwali for kids, speech on diwali in marathi.

No comments:

Post a Comment